सोमवार, 25 जुलाई 2022

शिक्षकों का नियोजन रद्द कर वेतन लौटाने का आदेश। देखिए रिपोर्ट


करगहर प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न विद्यालयों में कार्यरत फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर नियोजित 14 शिक्षकों का नियोजन रद्द कर दिया गया । इस आशय की जानकारी बीईओ राज किशोर यादव ने दी । उन्होंने बताया कि जिला कार्यक्रम पदाधिकारी के निर्देश पर उच्चतर माध्यमिक शिक्षा परिषद दिल्ली से निर्गत इंटरमीडिएट के अंकपत्र व प्रमाण पत्रों के आधार पर नियोजन का लाभ लेने वाले शिक्षकों का नियोजन रद्द करते हुए उनके विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है ।

उन्होंने बताया कि यह संस्था बिहार सरकार द्वारा अमान्य घोषित की गई है । इसके बाद भी नियोजन इकाइयों द्वारा शिक्षक पद पर नियोजित कर दिया गया । 2008 से 2012 के बीच किए गए नियोजित शिक्षकों का वेतन लौटाने का आदेश दिया गया है । उन्होंने बताया कि फर्जी प्रमाण के आधार पर उत्क्रमित मध्य  विद्यालय कुडिआरी , संजय सिंह ,  मोहम्मद औरंगजेब आलम , प्राथमिक विद्यालय कनक सेमरियां हाजरा खातून , प्राथमिक विद्यालय ठोरसन मनोज कुमार पासवान प्राथमिक विद्यालय अमवलिया सदानमोइन आरजु , प्राथमिक विद्यालय अमवलिया पुष्पा कुमारी प्राथमिक विद्यालय घोरडीहां रंभा कुमारी प्राथमिक विद्यालय कौवाखोच संगीता कुमारी , प्राथमिक विद्यालय उग्रसेनपुर गोपाल तिवारी , प्राथमिक विद्यालय खड़कपुरा सुनीता कुमारी , प्राथमिक विद्यालय मठिया रसूलपुर हिमांशु सिंह , प्राथमिक विद्यालय जैतपुरा माधुरी कुमारी व रमेश कुमार सिंह सहित 14 नियोजित शिक्षकों का प्रमाण पत्र फर्जी पाए जाने पर नियोजन रद्द किया गया है ।

चयन रद्द करने वाले शिक्षकों ने बताया कि बिहार सरकार द्वारा जारी किए गए अमान्य संस्थाओं की सूची में इस संस्था का नाम नहीं है । फिर भी जिला कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा भावना से ग्रसित होकर यह कार्रवाई की गई है । जो जांच का विषय है ।




 

गुरुवार, 14 जुलाई 2022

जांच में शिक्षको का कटा वेतन। प्रधानाध्यापक को हटाने की मांग। देखिए यह रिपोर्ट




राज्य सरकार के निर्देश के आलोक में प्रत्येक बुधवार को योजनाओं की मौके पर की जाने वाली जांच में बेनीपुर के जिलाधिकारी राजीव रौशन और संबंधित अधिकारियों ने पंचायतों जाकर योजनाओं और शिक्षण संस्थानों की जांच की । जिसमें गंभीर अनियमितता सामने आई । जिलाधिकारी स्वयं पोहद्दी पंगायत में जांच के लिए पहुंचे । जिलाधिकारी के साथ क्षेत्रीय विधायक डॉ . विनय कुमार चौधरी भी थे । इस क्रम में जब जिलाधिकारी पोहद्दी पंचायत के उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय पर पहुंचे , तो विद्यालय बंद मिला। इस दौरान ग्रामीणों ने स्कूल में व्याप्त कुव्यवस्था , शैक्षणिक एवं वित्तीय अनियमितता को लेकर डी एम के सामने शिकायतों की बौछार कर दी ।विद्यालय में झूल रहे ताला एवं ग्रामीणों की शिकायत पर जिलाधिकारी ने तत्काल बीईओ इन्दु सिन्हा को तलब कर उन्हें जमकर फटकार लगाते हुए सभी शिक्षकों का 1 दिन का वेतन काटने  का आदेश दे दिया।वहीं ग्रामीणों ने प्रधानाध्यापक विनोद पासवान पर नशे के हालात में विद्यालय आने की शिकायत करते हुए उन्हें प्रधानाध्यापक कार्य से मुक्त करने की भी मांग की ।


इसके बाद जिलाधिकारी प्लस टू उच्च विद्यालय , महिनाम पहुंचे । जहां उन्होंने साफ - सफाई शैक्षणिक व्यवस्था आदि की गहन जांच की । इस दौरान शिक्षक बसंत कुमार को 11:00 बजे विद्यालय पहुंचने तथा लाइबेरियन श्रद्धा भारती को विद्यालय से कई दिनों से गायब होने का भी मामला प्रकाश में आया वैसे प्रधानाध्यापक ने कहा कि लाइबेरियन जिला में कहीं प्रति नियोजन पर है । महीना में उच्च विद्यालय पर एक से दो दिन विद्यालय आ जाती है ।


जिलाधिकारी के आने की सूचना मिलते ही स्थानीय लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी और यहां भी व्याप्त शैक्षणिक व्यवस्था को लेकर स्थानीय लोगों ने डीएम से जमकर शिकायत करते हुए प्रधानाध्यापक विनोद कुमार को यहां से हटा देने की मांग की । जिलाधिकारी ने पढ़ा रहे शिक्षकों की बीच गये जहां छात्रा नन्दनी कुमारी से सवाल किये , फिर शिक्षकों से भी गणित से सवाल किए फिर शिक्षक घनश्याम झा ने सहजता से सवाल छात्रों को समझाया विद्यालय की शैक्षणिक व्यवस्था सुदृढ़ करने के लिए शिक्षकों के साथ बैठक कर कई सुझाव दिए । पोहद्दी पंचायत के आरटीपीएस काउंटर का निरीक्षण किया । जहां कार्यपालक सहायक अंशु कुमारी आरटीपीएस काउंटर संचालन की महज खानापूरी में जुटी हुई थी । ग्रामीणों ने कहा कि आरटीपीएस काउंटर अधिकांश समय बंद ही रहता है । इसके अलावा वार्ड 12 एवं 7 में पीएचईडी विभाग द्वारा बने नल जल योजना का भी निरीक्षण किया जो पूर्णतः बंद मिला । इस दौरान विधायक डॉ . विनय कुमार चौधरी , प्रमुख चौधरी मुकुंद , पंचायत समिति सदस्य प्रेम कुमार , जदयू नेता अमित कुमार राय आदि मौजूद थे । 

बुधवार, 6 जुलाई 2022

राशि नही मिलने पर शिक्षको पर तलवार से वार। शिक्षको का भुगतान शुरू



राज्य में  हो गया है । नवनियुक्त प्रारंभिक शिक्षकों की संख्या तकरीबन 42 हजार है । शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के निर्देश के बाद नवनियुक्त प्रारंभिक शिक्षकों का वेतन भुगतान शुरू हुआ है । अब तक कटिहार , नवादा , समस्तीपुर , रोहतास में नवनियुक्त शिक्षकों को गत फरवरी एवं मार्च माह के वेतन का भुगतान किया जा चुकाW है । कटिहार जिले के नवनियुक्त शिक्षकों के खाते में अप्रैल और मई का वेतन भी जल्द जाने वाला है । यह बात दीगर है कि कई जिलों में नवनियुक्त शिक्षकों को वेतन का अभी भी इंतजार है । नवनियुक्त शिक्षक सौरव कुमार ने बताया कि जमुई में अब तक कागजी प्रक्रिया ही चल रही है । उन्होंने बाकी जिलों में भी भुगतान को लेकर गतिरोध की स्थिति समाप्त करने का आग्रह किया है ।



अररिया जिले के जोकीहाट प्रखंड में भगवानपुर पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय भगवानपुर में मंगलवार को एक अजीबोगरीब घटना घटी। विद्यालय में शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे थे। इसी बीच लुंगी पहने एक व्यक्ति अकबर  को गाली देने लगा। तलवार से मारने की धमकी दी। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। अकबर के बच्चे उस विद्यालय में पढ़ते हैं।लेकिन अब तक उसके बच्चे को किताब और पोशाक राशि नहीं मिल पाई है। इस वजह से वह नाराज था।

शनिवार, 2 जुलाई 2022

सरकारी कर्मियों के लिए अच्छी खबर।वेतन में 6% की वृद्धि।देखिए ये रिपोर्ट



सरकारी कर्मचारियों के लिए एक बड़ी खबर आई है।मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार  सरकार सरकारी कर्मचारियों के लगभग डेढ़ साल के डीए एरियर का एकमुश्त भुगतान करने का मन बना रही है  देश के 1 करोड़ से अधिक कर्मचारियों और पेंशन भोगियों के लिए यह अच्छी खबर है।  सरकारी कर्मी  काफी लंबे वक्त से अपने बकाया डीए की मांग कर रहे हैं।

आपको बता दें मार्च में हुए महंगाई के आंकड़ों में वृद्धि के चलते सरकारी कर्मचारियों का डीए यानी महंगाई भत्ता बढ़ाने का फैसला हुआ था।फिलहाल सरकारी कर्मचारियों को 34 फीसदी हिसाब से डीए मिल रहा है . हालांकि जल्द ही सरकारी कर्मचारियों के डीए में फिर से बढ़ोतरी होगी . माना जा रहा है कि सरकारी कर्मचारियों का डीए 4 से 6 फीसदी तक बढ़ सकता है . ऐसी उम्मीदें हैं कि सरकारी कर्मचारियों के डीए में इस साल जुलाई से ही बढ़ोतरी संभव है . अगर जुलाई में सरकारी कर्मचारियों का डीए 4 फीसदी तक बढ़ता है तो यह 38 फीसदी तक हो जाएगा।