रविवार, 30 मई 2021

सरकार का फैसला।शिक्षको की नियुक्ति के साथ वेतन वृद्धि का लाभ।देखिए रिपोर्ट



राज्य के जिन पारंपरिक विश्वविद्यालयों में अतिथि शिक्षकों की 11 माह की सेवा पूरी हो चुकी है, वहां नये नियम के तहत उनकी सेवा नवीकृत होगी।11 माह की सेवा पूरी करने वाले अतिथि शिक्षकों की सेवा नवीकृत करने की प्रक्रिया कई विश्वविद्यालयों ने शुरू कर दी है।

विश्वविद्यालयों के स्नातकोत्तर  अंगीभूत कॉलेजों में उन्हीं विषयों में शिक्षकों के रिक्त पदों पर अतिथि शिक्षकों की पुनर्नियुक्ति होगी, जिसमें पूर्णकालिक शिक्षकों की संख्या शून्य अथवा कम है और छात्र अधिक हैं। विश्वविद्यालयों में 11 माह तक ही अतिथि शिक्षकों को सेवा में बनाये रखने का प्रावधान है। 11 माह की सेवा पूरी होने के बाद पुनः उनके कार्य निष्पादन मूल्यांकन के आधार  पर अगले 11 माह के लिए उनकी सेवा नवीकृत करने का प्रावधान है। 

अतिथि शिक्षकों को प्रति व्याख्यान 1500 रुपये प्रतिमाह अधिकतम 50 हजार रुपये दिये जाने हैं। यह प्रावधान विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के निर्देश पर राज्य में 13 अप्रैल, 2021 के प्रभाव से लागू है।

0 टिप्पणियाँ: