रविवार, 24 मई 2020

ईद में वेतन पर अधिकारियों ने लगाया ग्रहण।






राज्य में हड़ताल से लौटे शिक्षकों की  ईद वेतन के अभाव में फीकी रहेगी।निर्देश  राज्य सरकार के आदेश-दर-आदेश के बाद भी हड़ताल से लौटे लाखों शिक्षकों के समक्ष पिछले चार महीनों से वेतन के लाले हैं। खास बात यह है कि आवंटन रहने के बाद भी फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई का वेतन जारी नहीं हुआ। 

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के मीडिया प्रभारी सह प्रवक्ता अभिषेक कुमार ने बताया कि शिक्षा विभाग ने अपने लिखित समझौता तथा हड़ताल वापसी के बाद जिला शिक्षा पदाधिकारियों को दिए अपने आदेश में स्पष्ट किया  था कि लॉकडाउन अवधि तथा फरवरी माह के  कार्यरत अवधि का वेतन अविलंब जारी करें। 

इस बीच राज्य सरकार ने भी राज्य के सभी कर्मियों को मई माह का वेतन ईद से पूर्व भुगतान करने का निर्देश जारी किया, मगर शिक्षा विभाग के अंतर्गत राज्य के शिक्षकों का वेतन फरवरी से लेकर मई माह तक ईद के पहले जारी नहीं किया गया। यह बात अलग है कि एक-दो जिलों में शिक्षक संघ की विशेष तत्परता पर मात्र फरवरी माह के कार्यरत अवधि का वेतन भुगतान संभव हो सका है।


संघ ने बताया कि एक तरफ शिक्षक वेतन के आभाव मे अपनी गर्मियों की छुट्टियों के बाद भी शिक्षा विभाग के आदेश पर बिना सुरक्षा के कोरेंटाइन सेंटरों में सेवा दे रहे हैं। जिसकी तनिक भी चिंता सरकार को नही है। 



उन्होंने मांग की है कि कोरोना संकट के इस काल में तथा लॉकडाउन की मुश्किल घड़ी में  सरकार व विभाग के आदेश के बाद भी ईद के पर्व पर वेतन भुगतान न करने वाले अधिकारियों पर अविलंब कार्रवाई की जाय।


0 टिप्पणियाँ: