गुरुवार, 17 जनवरी 2019

40 स्कूलों को करेगा विभाग बंद।




सिवान जिले में शिक्षा व्यवस्था की हालत खराब है। इसका मूल कारण है। कि कई स्कूलों में बच्चे ही नहीं हैं। जबकि ऐसे स्कूलों में शिक्षकों की संख्या अच्छी खासी है। 

जिले के पचरुखी प्रखंड के नया प्राथमिक विद्यालय, घोड़गहिया दुसाधपट्टी स्कूल का अपना भवन भी है, लेकिन वहां पर केवल 6 बच्चों का ही एडमिशन है। 6 बच्चों को पढ़ाने के लिए एक शिक्षक भी हैं। जब शिक्षक को घरेलू काम पड़ता है या वे बीमार पड़ते हैं तो स्कूल को बंद करना पड़ता है।



इसी तरह एनपीएच जसौली मुर्गियाटोला में 20 बच्चों का एडमिशन है। लेकिन इस स्कूल में 5 शिक्षक पदस्थापित इस तरह वहां पर 4 बच्चों पर एक शिक्षक पदस्थापित हैं। 



आदर प्रखंड के प्राइमरी स्कूल दोआब में मात्र 31 बच्चे नामांकित हैं। जबकि यहां पर 7 शिक्षक पदस्थापित हैं। इस तरह यहां पर भी 4 बच्चों पर एक शिक्षक पदस्थापित हैं। इसी तरह शिक्षा विभाग ने जिले के 40 ऐसे स्कूलों की सूची जारी कर दी है, जहां पर बच्चों की संख्या काफी कम है। 



इस किसी भी स्कूल में 40 बच्चे नहीं है। यानी की इन 40 स्कूलों में 1344 बच्चे नामांकित हैं। जबकि 133 शिक्षक पदस्थापित हैं।






0 टिप्पणियाँ: