बुधवार, 3 अक्तूबर 2018

3 अक्टूबर की सुनवाई ने रच दिया इतिहास।जानिए कोर्ट में क्या क्या हुवा



 आज सुप्रीम कोर्ट में समान काम समान वेतन  केस की सुनवाई 2:00 बजे शुरू हो गई कोर्ट नंबर 9 में सुनवाई शुरू की गई।

कोर्ट में सबसे पहले सराकरी वकील दीवान जी ने अपनी बातों को रखना शुरू किया ,उन्होंने छतीसगढ के वेतन सम्बंधित रिपोर्ट के बारे में कोर्ट को बताया।


बिहार की वित्तीय स्थिति के संबंध में श्याम दिवान और विजय हंसरिया में तीखी बहस हुई। श्री हंसरिया ने कहा शिक्षकों के पैसे से सरकार छात्रवृत्ति, पोशाक, साईकिल और नैपकिन बांट रही है।


आपको बता दे कि आज कोर्ट में शिक्षको के तरफ से अदिवक्ता सलमान खुर्शीद,कपिल सिब्बल,और सी.ए. सुंदरम जी कोर्ट रूम में उपस्थित थे।

जज साहब ने आज कोर्ट रूम में सभी को बहस समाप्त करने के लिए कहा।

आज करीब एक घंटे की बहस में सरकार ने अपने पक्ष को समाप्त किया। शिक्षकों की ओर से कोर्ट को  सरकार द्वारा दी गई थोथी दलील का जवाब देने एवं बहस को कनकुलूड करने के लिए सी आर्यमा सुन्दरम बहस प्रारंभ करना शुरू किया। C A सुंदरम साहब के सभी प्रमाणिक तर्को को जज साहब धयान से सुन रहे थे।

आपको बता दे कि जज साहब ने कोर्ट रूम सभी वकीलों को बातों को बड़े ही ध्यान से सुन रहे थे सभी सबूतों और पक्षो को सुनने के बाद

अब समान काम समान वेतन मामले में सुनवाई संपन्न हो गई फैसला रिजर्व रख लिया गयाl शिक्षको का संघर्ष संपन्न हुआ सूत्रों से जानकरी मिली है कि 10 अक्टूबर को फाइनल फैसला कोर्ट के द्वारा सुनाया जाएगा।

बिहार के 4 लाख शिक्षको को इस ऐतिहासिक जीत के लिए बहुत बहुत बधाई।





0 टिप्पणियाँ: