शनिवार, 8 सितंबर 2018

प्रधानाध्यापक की लापरवाही से बच्चो की हालत हुई खराब।


मोतिहारी

घोड़ासहन प्रखंड के राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय पुरनहिया कोठी में एमडीएम खाने से करीब दर्जन बच्चे बीमार हो गये ।

बीमार बच्चे पुरनहिया नारायणकोठी महादेवा,भेलाही तथा
जगिरहां गांव के हैं. सभी को आनन फानन में परिजनों ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे छात्र व परिजनों के
मुताबिक शुक्रवार को एमडीएम में चावल व चने की सब्जी दी गयी थी

जबकि मेन्यू के अनुसार बच्चों को चावल छोला के अलावा एक अंडा या फल देना था।

एक प्लेट में मरी हुई छिपकली दिखायी दी, जिसकी शिकायत प्रधान शिक्षक से की गयी लेकिन प्रधान शिक्षक ने उस प्लेट का खाना फेंक दिया. खाना खाकर सभी बच्चे घर चले गये. शाम
होते ही बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।


आननफानन में परिजन बच्चों को लेकर पीएचसी पहुंचे जहां उनका इलाज किया गया.सूचना पर बीडीओ अशोक कुमार,
स्वास्थ्य केंद्र में बच्चों का हाल जानने पहुंचे. वहां कई बच्चों का इलाज चल रहा था।

चिकित्सा पदाधिकारी डॉ रामनरेश प्रसाद ने बताया कि दो दर्जन से ज्यादा बच्चों की हालत गंभीर है, सभी को उचित इलाज के लिए एंबुलेंस से मोतिहारी भेज दिया गया है।

15 बच्चों का इलाज पीएचसी में चल रहा है कुछ बच्चे निजी नर्सिग होम में भी हैं,करीब 30 बच्चों को मोतिहारी भेजा गया
है।

बीमार बच्चों को चक्कर,पेट दर्द उलटी की शिकायत थी. घोड़ासहन में प्राथमिक उपचार के बाद एक ही एंबुलेंस
में 30 बच्चे व अभिभावकों को भर कर लाया गया. एंबुलेंस में कुव्यवस्था के कारण बच्चों को उलटी हुई।


0 टिप्पणियाँ: