मंगलवार, 18 सितंबर 2018

टीईटी का अब तक का सबसे भयंकर फर्जीवाड़ा।जानकर चौक जाएंगे आप




बीटीईटी 2011 शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में निगरानी की रिपोर्ट चौंकाने वाली है।

सिर्फ अंकों के हेरफेर का ही मामला नहीं है। रिपोर्ट के अनुसार

प्रमाणपत्रों के साथ छेड़छाड़ की बात भी है।

दलालों और बिहार बोर्ड में बैठे शातिरों ने ऐसे लोगो को भी शिक्षक बना दिया, जिन्होंने पात्रता परीक्षा ही नहीं दी।बेगूसराय से गिरफ्तार चार शिक्षिकाओं में से तीन के बारे में ऐसी ही जानकारी सामने आई है।

शिक्षिका पूजा भारती, श्वेता और मंजू पात्रता परीक्षा में शामिल ही नहीं हुई थीं। इन तीनों के साथ कई को दूसरे अनुत्तीर्ण अभ्यर्थी की जगह उत्तीर्ण दिखाकर शिक्षक बना दिया गया।


शातिरों ने ऐसेऐसे अभ्यर्थियों को पास दिखाया, जो पेपर वन में पास ही नहीं हुए थे। ऐसे 14 शिक्षकों के नामजद और कछ अज्ञात विरुद्ध निगरानी की टीम ने बेगूसराय के डंडारी थाने में जांच के बाद मामला दर्ज कराया था।

निगरानी के एक सीनियर अधिकारी की माने तो हर जिले में ऐसी बहाली हुई है। बड़े स्तर पर फर्जीवाड़ा हुआ है।


0 टिप्पणियाँ: